13 फरवरी तक चलेगा कुष्ठ जागरूकता अभियान

खबरी पोस्ट नेशनल न्यूज नेटवर्क
चंदौली |पंडित कमलापति त्रिपाठी संयुक्त चिकित्सालय में सोमवार को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी की पुण्यतिथि पर उनके चित्र पर पुष्प अर्पित कर कुष्ठ निवारण दिवस मनाया गया| इसके साथ ही जनपद में स्पर्श कुष्ठ जागरूकता अभियान का शुभारम्भ किया गया| यह अभियान आज 30 जनवरी से शुरू होकर 13 फरवरी तक चलाया जाएगा| इस दौरान मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ वाई के राय ने कुष्ठ रोग से प्रभावित लोगों को कम्बल, मेडिकल किट, फल आदि का वितरित किये| उन्होंने कहा कि अभियान के अंतर्गत जिले में विभिन्न आयोजन किए जाएंगे जिससे लोगो में कुष्ठ के प्रति जागरूकता आ सके|

अभियान के तहत 1966 टीम शहरी एवं देहात क्षेत्रों में घर-घर जाकर संभावित मरीजों को कुष्ठ रोग के प्रति करेंगी जागरूक

जिला कुष्ठ रोग अधिकारी डॉ रमेश प्रसाद ने बताया कि अभियान के तहत 1966 टीम शहरी एवं देहात क्षेत्रों में घर-घर जाकर संभावित मरीजों को कुष्ठ रोग के प्रति जागरूक करेंगी| जांच में कुष्ठ रोग की पुष्टि होने पर स्वास्थ्य विभाग की ओर से परामर्श व दवा की सुविधा दी जाएगी| यह दवा प्राथमिक व सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पर भी उपलब्ध है| अभियान के तहत आशा, एएनएम, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता घर-घर जाकर कुष्ठ रोगियों की पहचान कर उन्हें इलाज के लिए जागरूक करेंगी|

कैसे करे पहचान रोग के लक्षण की –

1-त्वचा पर हल्के रंग का समतल या उभरा हुआ दाग या ताम्बे के रंग का दाग|
2-त्वचा का वह दाग जिसमें सुन्नपन हो|
3-दाग चकत्ता जिसमें पसीना न आता हो|
4-हाथ पैर के नसों में मोटापन, सूजन तथा झनझनाहट|
5-हाथ और पैर के तलवे में सुन्नपन|
6-हाथ पैर में अपने आप छालों का पड़ना|
7-चेहरा, शरीर तथा कान पर गांठ|
8-घाव जिसमें दर्द न होता हो|
9-घाव जो इलाज के बाद ठीक न होता हो|
10-हाथ पैर की अंगुलियों में टेढ़ापन|
11-हाथ और पैर से पूरी क्षमता से काम न होना|

अप्रैल 2022 से जिले में दिसंबर 2022 तक 114 मरीज हो चुके हैं ठीक

जिला पर्यवेक्षक अधिकारी डॉ तपेश्वर राम ने बताया कि अप्रैल 2022 से जिले में कुल 156 मरीज इलाज पर रखें गए है जिसमें दिसंबर 2022 तक 114 मरीज ठीक हो चुके हैं| किसी भी लक्षण का पता चलने पर तुरंत अपने निकटतम अस्पताल जाकर जांच कराएं| साथ ही सभी सरकारी अस्पतालों में जांच,इलाज एवं परामर्श व दवा दी की सुविधा दी जाती है|

कुष्ठ दिव्यांग रोगियों को प्रतिमाह 3000 रुपये पेंशन

कुष्ठ दिव्यांग रोगियों को प्रतिमाह 3000 रुपये पेंशन दी जाती है और नि:शुल्क सर्जरी की जाती है। सर्जरी के उपरांत 8000 रुपये मानदेय भी दिया जाता हैं| कुष्ठ उन्मूलन कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए नये कुष्ठ रोगियों की खोज पर 250 रुपये एवं नये कुष्ठ दिव्यांग रोगियों पर 200 रुपये लाने वाले व्यक्ति को दिया जाता है|

कुष्ठ रोग के प्रति लोगों को जागरूक करने की जरूरत

जिला पर्यवेक्षक तपेश्वर राम ने बताया कि अब भी समाज में कुष्ठ रोग के प्रति गलत धारणा है जिसको दूर करने के लिए लोगों को जागरूक करने की जरूरत है| कुष्ठ रोग बैक्टीरिया के कारण होता है । कोई पूर्व जन्म का पाप या अभिशाप नहीं है| यह बीमारी का समय रहते इलाज करने से पूर्ण रूप से ठीक हो जाता है| साथ ही दवा की दो खुराक से कुष्ठ रोग से प्रभावितों के निकट संपर्क में रहने वालों को खिलाई जायेगी, जिससे उनमें कुष्ठ रोग की सम्भावना समाप्त हो सके और नये मरीजों की संख्या में कमी आ सके|
इस अवसर पर मुख्य चिकित्सा अधिक्षिका डॉ उर्मिला सिंह, एसीएमओ डॉ अमित दुवे, एडीएमओ राजीव सिंह, डॉ पीपी उपध्याय, रामजनम विश्वकर्मा, राधे श्याम राम एवं विभाग के समस्त कर्मचारी उपस्थित रहें|

khabaripost.com
sagun lan
sardar-ji-misthan-bhandaar-266×300-2
bhola 2
add
WhatsApp-Image-2024-03-20-at-07.35.55
previous arrow
next arrow

You missed