सम्मान के साथ बहराइच लाया जाएगा पार्थिव शरीर, हार्ट अटैक से गई जान

srvs-001
srvs
WhatsApp Image 2023-08-12 at 12.29.27 PM
Iqra model school
WhatsApp-Image-2024-01-25-at-14.35.12-1
WhatsApp-Image-2024-02-25-at-08.22.10
WhatsApp-Image-2024-03-15-at-19.40.39
WhatsApp-Image-2024-03-15-at-19.40.40
jpeg-optimizer_WhatsApp-Image-2024-04-07-at-13.55.52-1
previous arrow
next arrow

खबरी पोस्ट नेशनल न्यूज नेटवर्क

बहराइच। गिरीश चंद्र तिवारी (40) पुत्र जयकरन तिवारी जो CRPF में हवलदार के पद पर भोपाल में विगत दो वर्षों से तैनात थे कि परेड के दौरान मौत हो गई। मौत की खबर से पूरा कोहराम मच गया। जवान थाना क्षेत्र अंतर्गत हसुआपारा के दसौती गाँव का निवासी था।

khabaripost.com
sagun lan
sardar-ji-misthan-bhandaar-266×300-2
bhola 2
add
WhatsApp-Image-2024-03-20-at-07.35.55
previous arrow
next arrow

प्राप्त समचार के अनुसार बुधवार को जब प्रातः 4 बजे की परेड में शामिल होने जवान पहुॅचा तो इसी दौरान अचानक सीने में दर्द होने लगा। अन्य जवान तुरंत उन्हें हॉस्पिटल ले जाने लगे तब तक उनकी मौके पर ही मौत हो गई।

उच्चाधिकारियों ने मौत की सूचना सुबह 5 बजे फोन से उनकी पत्नी को दी तो उसके घर में कोहराम मच गया। पत्नी शहर बहराइच के बक्शीपूरा में अपने बच्चों के साथ रहती है। मां की रोने की आवाज सुनकर बच्चे भी अवाक रह गए और कारण जानने के बाद वो भी चिल्लाने लगे सुबह रोने की आवाज सुनकर मोहल्ले वाले भी इकट्ठा हो गए और सांत्वना देने लगे।

इसकी सूचना पैतृक गांव दसौतीहसुआपारा  में रह रहे पिता को मिली तो वह भी अवाक रह गए। लोग मृतक जवान के घर सांत्वना देने पहुंच रहे हैं।सम्मान के साथ मध्य प्रदेश से हवलदार का शव जिले के लिए गुरुवार को रवाना होगा। अन्य तैयारियों को लेकर डीएम ने मृतक जवान के परिवार को कार्यालय बुला लिया है।

मौत की सूचना मिलते ही हवलदार की पत्नी सविता तिवारी और परिवार में मचा कोहराम

भाई के मुताबिक ड्यूटी के दौरान सीआरपीएफ हवलदार की मौत हो गई। इसकी जानकारी मिलते ही हवलदार की पत्नी सविता तिवारी और परिवार में कोहराम मच गया। उधर मध्य प्रदेश प्रशासन द्वारा बहराइच डीएम को घटना से अवगत कराया गया। डीएम डॉक्टर दिनेश चंद्र ने एसडीएम पयागपुर के द्वारा मृतक हवलदार के परिवार को कार्यालय बुलवाया है। सीआरपीएफ जवान की ड्यूटी के दौरान मौत से क्षेत्र में शोक है। सैन्य सम्मान के साथ हवलदार का शव जिला मुख्यालय के लिए भेजा जाएगा।