srvs-001
srvs
WhatsApp Image 2023-08-12 at 12.29.27 PM
Iqra model school
WhatsApp-Image-2024-01-25-at-14.35.12-1
WhatsApp-Image-2024-02-25-at-08.22.10
WhatsApp-Image-2024-03-15-at-19.40.39
WhatsApp-Image-2024-03-15-at-19.40.40
jpeg-optimizer_WhatsApp-Image-2024-04-07-at-13.55.52-1
previous arrow
next arrow

एक दिन पहले मायके से लौटी थी पत्नी, ढाई वर्ष की बच्ची है, परिवार से अलग रहते थे

खबरी पोस्ट नेशनल न्यूज नेटवर्क

आगरा। आगरा में बुधवार शाम को चौंकाने वाला मामला सामने आया है। यहां पर पति-पत्नी ने बेटी को घर के बाहर निकालकर सुसाइड कर लिया। ढाई साल की मासूम बाहर रो रही थी। पड़ोसियों को यह बात कुछ अजीब लगी। जब उन्होंने घर के अंदर झांक कर देखा तो पति-पत्नी साड़ी के सहारे फंदे पर लटके हुए थे। पड़ोसियों ने मामले की सूचना पुलिस को दी। मामला मलपुरा थानाक्षेत्र के धानौली का है।

मौके पर नहीं मिला कोई सुसाइड नोट
पुलिस ने जांच पड़ताल की, लेकिन मौके पर कोई भी सुसाइड नोट नहीं मिला। पुलिस ने शव पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है। पड़ोसियों की माने तो पति-पत्नी में अक्सर झगड़ा होता था। शायद इसी के चलते दोनों ने आत्महत्या की है। फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है।

khabaripost.com
sagun lan
sardar-ji-misthan-bhandaar-266×300-2
bhola 2
add
WhatsApp-Image-2024-03-20-at-07.35.55
previous arrow
next arrow

ईश्वरी (32) पत्नी बबली (30) और ढाई साल की बेटी लावण्या के साथ रहता था

बता दें कि धानौली में ईश्वरी (32) पत्नी बबली (30) और ढाई साल की बेटी लावण्या के साथ रहता था। उनकी शादी चार साल पहले हुई थी। वह मूल रूप से थाना कागरोल के गांव इकरामनगर का रहने वाला है। धनौली में वह मजदूरी करता था।

बुधवार शाम लगभग 4 बजे बेटी लावण्या घर के बाहर रो रही थी। पड़ोसियों ने जब देखा तो उन्होंने घर के बाहर से आवाज लगाई। लेकिन कोई जवाब नहीं मिला। इसके बाद उन्होंने दरवाजा खटखटाया लेकिन अंदर से किसी ने दरवाजा नहीं खोला। इसके बाद जब पड़ोसियों ने खिड़की से झांक कर देखा तो दंपती के सुसाइड का पता चला। देखते ही देखते लोगों की भीड़ लग गई।

एक दिन पहले मायके से लौटी थी पत्नी

मंगलवार को बबली अपने मायके से लौटी थी। बुधवार की सुबह ईश्वरी काम पर गया था। दोपहर बाद करीब तीन बजे वह काम से लौटा था। इसके बाद कुछ देर बाद घर में ढाई वर्ष की मासूम लावण्या के तेज आवाज में रोने की आवाज आई। वह मासूम बच्ची भले ही जीने-मरने के अंतर को न समझ सकती हो लेकिन उसकी रोने की आवाज सामान्य से अलग थी।

फंदे पर लटक रहे थे ईश्वरी और बबली

बेटी लगातार रो रही थी वह चुप ही नहीं हो रही थी। बच्ची के रोने पर मां उसे चुप करा लेती थी। आज कोई हलचल नहीं थी। यह बात पड़ोसियों को कुछ खटकी। उन्होंने घर जाकर दरवाजे से झांका तो उनके होश उड़ गए। ईश्वरी और बबली दोनों फंदे पर लटक रहे थे। 

पिता बोले-सब कुछ तो ठीक चल रहा था

पड़ोसी बच्ची को उठाकर बाहर ले आए। इसकी सूचना पुलिस को परिजन को दी। सूचना पर ईश्वरी के पिता सूखा सहित घर व गांव के अन्य लोग मौके पर पहुंचे। उधर सूचना पर पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। पुलिस ने घटनास्थल का निरीक्षण करके जानकारी ली। बेटे और बहू ने आत्महत्या क्यों की इस पर पिता कुछ नहीं बता सके। उन्होंने कहा कि सब कुछ तो ठीक चल रहा था। फिर न जाने ऐसा कदम क्यों उठाया। फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है।