• आनलाइन पढ़ाई में सीख रहे कविता, कहानी और भावगीत
  • सर्वांगीण विकास के साथ ही शिक्षा के प्रति बढ़ रहा रूझान।
WhatsApp Image 2023-08-12 at 12.29.27 PM
Iqra model school
WhatsApp-Image-2024-01-25-at-14.35.12-1
WhatsApp-Image-2024-02-25-at-08.22.10
jpeg-optimizer_WhatsApp-Image-2024-04-07-at-13.55.52-1
srvs_11zon
Screenshot_7_11zon
WhatsApp Image 2024-06-29 at 12.
IMG-20231229-WA0088
previous arrow
next arrow

खबरी पोस्ट नेशनल न्यूज नेटवर्क

चंदौली। बरहनी ब्लॉक के खझरा गाँव में रहने वाले तीन से छह आयु वर्ग के कुछ बच्चे आंगनबाड़ी केंद्र नहीं आते थे | क्षेत्र की आंगनबाड़ी कार्यकर्ता रेशमी दुबे ने इन बच्चो के अभिभावकों के मोबाइल फोन में “बाल पिटारा एप” डाउन लोड किया | इस एप के जरिये बच्चो ने बौद्धिक शारीरिक भाषा एवं रचनात्मक विकास कि गतिविधियों व कहानियों का विडिओ देखा | इससे वह इस तरह प्रोत्साहित हुए कि अब वह शिक्षा के लिए आंगनबाड़ी केंद्र खझरा आने लगे हैं |

बाल पिटारा एप अभिभावक अपने मोबाइल में भी कर सकते हैं अपलोड

यह कहानी सिर्फ आंगनबाड़ी केंद्र खझरा की ही नही अन्य केन्द्रों की भी है | बाल पिटारा एप से हो रही आनलाइन पढाई ने नन्हें-मुन्नों का शिक्षा के प्रति रूझान को बढ़ाया है | बच्चों के सर्वांगीण विकास के साथ ही यह एप उनकी शिक्षा के लिए वरदान बन रहा है | जिला कार्यक्रम अधिकारी जया त्रिपाठी बताती हैं कि बाल पिटारा एप से बच्चों को कविता, कहानी, भावगीत आदि के माध्यम से ज्ञानवर्धक बातें सिखाई जाती हैं । इस एप को अभिभावक अपने मोबाइल में भी अपलोड कर सकते हैं। इसके माध्यम से वह घर पर भी बच्चों को पढ़ा सकते हैं। इस तरह से बच्चों में पढ़ाई के प्रति रूझान बढ़ रहा है ।

आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को अभिभावकों के एंड्रायड मोबाइल फोन में “बाल पिटारा” रेसपॉसिव पेरेंटिंग मोबाइल एप को अपलोड करने की सौपी गई जिम्मेदारी

बताया कि आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को अभिभावकों के एंड्रायड मोबाइल फोन में इस एप को अपलोड कराने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। जनपद के आंगनबाड़ी केंद्रों में अर्ली चाइल्ड केयर एजुकेशन (ईसीसीई) के प्रभावी क्रियान्वयन के लिए तीन से छह वर्ष तक के आयु वर्ग के बच्चों के सर्वांगीण विकास में अभिभावकों के योगदान को प्रोत्साहित करने के लिए सितंबर 2022 में विभाग ने “बाल पिटारा” रेसपॉसिव पेरेंटिंग मोबाइल एप को शुरू किया| बच्चों के अभिभावकों जागरूक करने व उनकी परस्पर सहभागिता बढ़ाने के लिए बाल पिटारा एप में तीन माड्यूल विकसित किये गये है|

1632 आंगनबाड़ी केंद्रों पर बाल पिटारा एप पर आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने 35217 बच्चों का डाटाबेस किया तैयार बाल पिटारा एप पर फीड कुल 35217 बच्चे

बाल विकास परियोजना अधिकारी बरहनी (सीडीपीओ) राम प्रकाश मौर्य ने बताया कि जिले में अबतक 1873 के सापेक्ष 1632 आंगनबाड़ी केंद्रों पर बाल पिटारा एप पर आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने 35217 बच्चों का डाटाबेस तैयार कर लिया है| जिले में बाल पिटारा एप पर फीड कुल 35217 बच्चे है| उन्होंने बताया कि परवरिश का पिटारा माड्यूल में 03-06 वर्ष के बच्चों में होने वाली बौद्धिक शारीरिक भाषा सामाजिक-भावनात्मक एवं रचनात्मक विकास की 384 गतिविधियों, 32 कहानियां एवं 32 कविताओं के वीडियो उपलब्ध है|अभिभावक इस माड्यूल के माध्यम से वीडियो को देखकर स्वयं घर पर बच्चों को प्री-स्कूल शिक्षा की गतिविधियां सरलता से सिखा सकते हैं | यह माड्यूल अभिभावकों में रेसपॉंसिव पैरेन्टिंग के अभ्यास को प्रोत्साहित कर रहा है|

07 प्रशिक्षण विडियो तथा एनबीटी से प्रकाशित 08 कहानियों के आडियों स्टोरीज भी उपलब्ध

इसके साथ ही बच्चों का डाटाबेस एवं मूल्यांकन कर इस माड्यूल के माध्यम से आंगनबाडी केंद्र में प्री-स्कूल शिक्षा के लिए पंजीकृत 03-06 वर्ष के बच्चों का डाटाबेस बनाया जा रहा है|जिससे बच्चों की ट्रेकिंग आंगनबाड़ी केंद्र से लेकर विद्यालय में कक्षा 01 में प्रवेश होने तक किया जा सकें| इस डाटाबेस के साथ-साथ आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को बच्चों के त्रैमासिक मूल्यांकन पर आधारित उनके विकास एवं सीखने के स्तर की स्थिति फीड हो रही है| ईसीसीई संसाधन माड्यूल में ई-बुक्स वीडियो आडियों के रूप में आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के प्रयोग के लिए विकसित किये गये सभी संसाधन उपलब्ध है|पहल पुस्तिका वार्षिक गतिविधि कैलेंडर बाल गतिविधि पुस्तिका 07 प्रशिक्षण विडियो तथा एनबीटी से प्रकाशित 08 कहानियों के आडियों स्टोरीज भी उपलब्ध है|

जनपद के सभी 1873 आंगनबाड़ी केंद्रों पर बाल पिटारा एप स्टाल

सीडीपीओ रामप्रकाश मौर्या का कहना है कि जनपद के सभी 1873 आंगनबाड़ी केंद्रों पर बाल पिटारा एप को स्टाल कर लिया गया है| जिससे 03-06 आयु वर्ग के बच्चों का डाटाबेस तैयार किया जा रहा है|इस बार से पिटारा एप पर आंगनबाड़ी केंद्र पर आने वाले बच्चों की प्रतिदिन उपस्थिति दर्ज की जा रही है| तथा बच्चों के शैक्षणिक बौद्धिक शारीरिक भाषा सामाजिक-भावनात्मक प्रगति का मूल्यांकन किया जा रहा है| बाल विकास परियोजनाओं के सभी 1873 आंगनबाड़ी केंद्रों पर पीटीएम एवं गृहभ्रमण के दौरान 03-06 वर्ष आयु वर्ग के बच्चों के अभिभावकों को बाल पिटारा एप के परवरिश का पिटारा माड्यूल के बारे बताया जा रहा है|तथा बच्चों के त्रैमासिक मूल्यांकन से अभिभावकों को परिचित कराया जा रहा है|

khabaripost.com
sagun lan
sardar-ji-misthan-bhandaar-266×300-2
bhola 2
add
WhatsApp-Image-2024-03-20-at-07.35.55
jpeg-optimizer_bhargavi
WhatsApp-Image-2024-06-22-at-14.49.57
previous arrow
next arrow