• भारत का अब तक का चौथा सबसे भीषण हादसा
  • ओडिशा ट्रेन हादसे में अबतक 280 लोगों की मौत, 900 से ज्यादा घायल
  • अगर ट्रेन में एंटी कोलिशन डिवाइस होता तो नहीं होता हादसा: ममता बनर्जी
  • PM मोदी ने बालेश्वर दुर्घटनास्थल का लिया जायजा
  • रेल दुर्घटना के शिकार हुए पीड़ितों से मिलने के लिए अस्पताल पहुंचे PM मोदी
  • घटनास्थल से ही लगाया कैबिनेट सचिव और स्वास्थ्य मंत्री को फोन

ओडिशा ट्रेन दुर्घटना: तीन ट्रेनों के बीच हुए हादसे के बाद शुक्रवार, 2 जून को हुए हादसे में कम से कम 288 लोगों की मौत हो गई और 1000 से अधिक घायल हो गए। भीषण हादसा तब हुआ जब चेन्नई की ओर जा रही शालीमार-चेन्नई सेंट्रल कोरोमंडल एक्सप्रेस पटरी से उतर गई. यह बगल के ट्रैक पर एक मालगाड़ी से टकरा गई, जिससे कोरोमंडल एक्सप्रेस का पिछला डिब्बा तीसरे ट्रैक से टकरा गया। तीसरे ट्रैक पर विपरीत दिशा से आ रही बेंगलुरु-हावड़ा सुपरफास्ट एक्सप्रेस पटरी से उतरे डिब्बों से जा टकराई.

खबरी पोस्ट नेशनल न्यूज नेटवर्क

बालासोर के अस्पताल में लोगों से मिले पीएम मोदी

पीएम नरेंद्र मोदी ने शनिवार को बालासोर ट्रेन हादसे में घायल हुए लोगों से मुलाकात की. इससे पहले उन्होंने दुर्घटनास्थल का दौरा किया जहां तीन ट्रेनें आपस में टकराईं और वहां चल रहे राहत कार्य का जायजा लिया।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी बालेश्वर ट्रेन दुर्घटनास्थल पर स्थिति का जायजा लेने के बाद दुर्घटना में घायल हुए पीड़ितों से मिलने के लिए बालेश्वर के एक अस्पताल पहुंचे।

srvs-001
srvs
WhatsApp Image 2023-08-12 at 12.29.27 PM
Iqra model school
WhatsApp-Image-2024-01-25-at-14.35.12-1
WhatsApp-Image-2024-02-25-at-08.22.10
WhatsApp-Image-2024-03-15-at-19.40.39
WhatsApp-Image-2024-03-15-at-19.40.40
jpeg-optimizer_WhatsApp-Image-2024-04-07-at-13.55.52-1
previous arrow
next arrow

घायलों से मिलने के बाद बोले पीएम मोदी- दोषियों को सख्त से सख्त दी जाएगी सजा

पीएम मोदी बालासोर ट्रेन दुर्घटना स्थल पर स्थिति का जायजा लेने के बाद दुर्घटना में घायल हुए लोगों से मिलने एक अस्पताल पहुंचे. यहां उन्होंने भर्ती यात्रियों से मुलाकात की और उनका हाल जाना. पीएम नरेंद्र मोदी ने बालासोर में कहा कि कुछ लोग, जिन्होंने अपनों को गंवाया है, जिन्होंने अपना जीवन खो दिया है, यह विचलित करनी वाली घटना है. जिन्हें चोट पहुंची है, उनकी मदद के सरकार कोई कसर नहीं छोड़ेगी

पीएम मोदी ने कहा “सरकार पीड़ित परिवारों के दुख में उनके साथ है. सरकार के लिए यह घटना बहुत की गंभीर है. हर स्तर की जांच के निर्देश दिए गए हैं. दोषी को सख्त से सख्त सजा दी जाएगी. उसके बख्शा नहीं जाएगा

khabaripost.com
sagun lan
sardar-ji-misthan-bhandaar-266×300-2
bhola 2
add
WhatsApp-Image-2024-03-20-at-07.35.55
previous arrow
next arrow

रेलवे ने प्रारम्भ की उच्चस्तरीय जांच

रेलवे ने ओडिशा के बालासोर में हुए भीषण ट्रेन हादसे की उच्च स्तरीय जांच शुरू कर दी है, जिसकी अध्यक्षता दक्षिण-पूर्वी सर्किल के रेलवे सुरक्षा आयुक्त करेंगे. रेलवे सुरक्षा आयुक्त नागर विमानन मंत्रालय के अधीन काम करता है और इस प्रकार के सभी हादसों की जांच करता है. हालात का जायजा लेने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी घटनास्थल के लिए रवाना हो गए हैं. इससे पहले उन्होंने एक हाई लेवल बैठक की अध्यक्षता की. इस भीषण रेल हादसे में 288 लोगों की मौत हो गई 1000 लोग घायल हुए हैं। रेल मंत्रालय ने इस दुर्घटना की जांच के आदेश दिए हैं. रेलवे के एक प्रवक्ता ने शनिवार को कहा कि ‘एसई (दक्षिण-पूर्वी) सर्किल के सीआरएस (रेलवे सुरक्षा आयुक्त) ए एम चौधरी हादसे की जांच करेंगे.’ हालांकि, अभी यह स्पष्ट नहीं है कि हादसा किस वजह से हुआ, लेकिन सूत्रों ने संकेत दिया है कि इसका संभावित कारण सिग्नल में गड़बड़ी होना है।

मार्ग पर ट्रेन टक्कर रोधी प्रणाली “कवच” उपलब्ध नहीं

राष्ट्रीय प्रवक्ता ने यह भी कहा है कि मार्ग पर ट्रेन टक्कर रोधी प्रणाली “कवच” उपलब्ध नहीं थी। वे इसके नेटवर्क में “कवच”, एक एंटी-ट्रेन टक्कर प्रणाली स्थापित करने की प्रक्रिया में हैं।कोलकाता से करीब 250 किलोमीटर दक्षिण में बालासोर जिले के बाहानगा बाजार स्टेशन के पास शुक्रवार शाम को सात बजे के आसपास हुआ यह हादसा भारत का अब तक का चौथा सबसे भीषण हादसा है.

प्रभावित यात्रियों के परिजनों को ले जाने के लिए विशेष चलाई जा रही ट्रेन

दक्षिण पूर्व रेलवे (एसईआर) ने शनिवार को कहा कि एक विशेष ट्रेन बालासोर दुर्घटना में प्रभावित यात्रियों के रिश्तेदारों को लेकर जाएगी। ठहराव संतरागाछी, उलुबेरिया, बागनान, मेचेड़ा, पंसकुरा, बलीचक, खड़गपुर, हिजली, बेल्दा और जलेश्वर होंगे।

ओडिशा ट्रेन हादसा: संयुक्त निरीक्षण रिपोर्ट में सिग्नल फेल होने की पुष्टि

दुखद बालासोर ट्रेन दुर्घटना पर संयुक्त निरीक्षण रिपोर्ट ने संकेत दिया कि दुर्घटना सिग्नल विफलता के कारण हुई थी। रिपोर्ट में कहा गया है, “12841 के लिए अप मेन लाइन के लिए सिग्नल दिया गया और हटा दिया गया, लेकिन ट्रेन लूप लाइन में घुस गई और मालगाड़ी से टकरा गई, जो अप लूप लाइन पर थी और पटरी से उतर गई।” इस बीच, 12864 डीडब्ल्यू से गुजरी (नीचे की मुख्य लाइन और दो डिब्बे पटरी से उतर गए और पलट गए।