• हाल ही में हास्पीटल में महिला की मौत के बाद से सक्रिय हैं जिला प्रशासन

खबरी पोस्ट नेशनल न्यूज नेटवर्क

चंदौली । मुख्यालय पर संचालित प्राइवेट हासपीटल सूर्या हॉस्पिटल एंड ट्रामा सेंटर पर इन दिनों जिला प्रशासन के अफसरों की निगाहें टेढ़ी हो गई है। सदर एसडीएम दिग्विजय प्रताप सिंह ने उक्त हॉस्पिटल में छापेमारी करके मरीजों को मिलने वाली सुविधाएं की जानकारी ली।

srvs-001
srvs
WhatsApp Image 2023-08-12 at 12.29.27 PM
Iqra model school
WhatsApp-Image-2024-01-25-at-14.35.12-1
WhatsApp-Image-2024-02-25-at-08.22.10
WhatsApp-Image-2024-03-15-at-19.40.39
WhatsApp-Image-2024-03-15-at-19.40.40
jpeg-optimizer_WhatsApp-Image-2024-04-07-at-13.55.52-1
previous arrow
next arrow

छापेमारी से मची खलबली

एसडीएम की छापेमारी से अस्पताल में तैनात कर्मचारियों में खलबली मच गई। जांच के दौरान एसडीएम को अस्पताल में कई खामियां मिली।ऐसे में एसडीएम ने बताया कि अस्पताल के खिलाफ रिपोर्ट तैयार करके उच्चाधिकारियों को भेजी जाएगी। जिसके बाद उच्च अधिकारियों की ओर से अस्पताल संचालकों के खिलाफ फैसला लिया जाएगा।

महिला मरीज की मौत के बाद से DM ने बैठाई चार सदस्यीय जांच टीम जो कर रही जांच

23 मई को एक महिला मरीज की मौत के बाद सूर्या हॉस्पिटल एंड ट्रामा सेंटर के चिकित्सकों की करतूत सामने आई थी। इसमें मृतिका के परिजनों ने चिकित्सकों पर लापरवाही और फर्जी डायग्नोस्टिक सेंटर से जांच कराने आरोप लगाया गया। इसी मामले में डीएम निखिल टीकाराम फुंडे के निर्देश पर सीएमओ डा. वाईके राय के द्वारा चार सदस्यी टीम गठित करके जांच कराई जा रही हैं। इसी क्रम में गुरुवार को सदर एसडीएम दिवीजय प्रताप सिंह ने सूर्या एंड ट्रॉमा सेंटर में पहुंचकर विभिन्न बिंदुओं की जांच की।

khabaripost.com
sagun lan
sardar-ji-misthan-bhandaar-266×300-2
bhola 2
add
WhatsApp-Image-2024-03-20-at-07.35.55
previous arrow
next arrow

जांच के दौरान चिकित्सक व टेक्निशियन नदारत

अफसर के द्वारा जांच के दौरान इमरजेंसी में कोई भी चिकित्सक मौजूद नहीं मिला। वहीं अस्पताल लगा अंनिशमन यंत्र भी मानक के अनुरूप नहीं थे। जिस पर एसडीएम ने अस्पताल संचालकों से कड़ी नाराजगी जताई। इसके अलावा भी उन्होने कई बिन्दुओं पर जांच किया। उन्होंने बताया कि अस्पताल के निरीक्षण में कई खामियां उजागर हुई है। मौके पर अस्पताल में चिकित्सक और टेक्नीशियन मौजूद नहीं थे।

ऐसे में अस्पताल संचालक के खिलाफ रिपोर्ट तैयार करके उच्चाधिकारियों को भेजी जाएगी।