dalimes
srvs-001
srvs
Screenshot_3
Screenshot_2
dwivedi02
silver-wells-finql
WhatsApp Image 2023-08-12 at 12.29.27 PM
add-dwivedi
Iqra model school
WhatsApp-Image-2024-01-25-at-14.35.12-1
WhatsApp-Image-2024-02-25-at-08.22.10
previous arrow
next arrow

रामयश चौबे की रिर्पोट

खबरी पोस्ट नेशनल न्यूज नेटवर्क

वाराणसी। जिले से एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है। वाराणसी जिले के दशाश्वमेध थाना क्षेत्र के देवनाथपुरा में एक घर में चार लोगों ने फांसी लगाकर सामूहिक आत्महत्या कर ली है। आत्महत्या की सूचना मिलने के बाद पुलिस मौके पर पहुंची और जांच कर रही है। हालांकि मृतकों के बारे में और आत्महत्या के कारणों की पूरी जानकारी अभी नहीं मिल पाई है।देवनाथपुरा स्थित आंध्रा आश्रम के काशी कैलाश भवन के दूसरे तल पर स्थित कमरे में फंदा लगाकर आंध्र प्रदेश निवासी दंपती और उनके दो बेटों ने जान दे दी। बृहस्पतिवार की शाम भवन के मैनेजर की सूचना पर पहुंची दशाश्वमेध थाने की पुलिस ने दरवाजा तोड़ कर चारों का शव फंदे से नीचे उतारा।

कमरे में मिला सुसाइड नोट
कमरे में मिली एक डायरी के ढाई पेज में तेलुगू में लिखे गए सुसाइड नोट के अनुसार सामूहिक आत्महत्या की वजह पैसे के लेनदेन का विवाद और आर्थिक तंगी है। आंध्र प्रदेश पुलिस को सूचना देकर दंपती और उनके दोनों पुत्रों का शव शिवपुर स्थित मोर्चरी में रखवाया गया है।

किराए पर लिया था कमरा
आंध्र प्रदेश के ईस्ट गोदावरी जिले के धर्मागुड़मू स्ट्रीट, मंडापेटा निवासी कोंडा बाबू (50), पत्नी लावन्या (45) और दो बेटों राजेश (25) व जयराज (23) के साथ बीते तीन दिसंबर की सुबह साढ़े 11 बजे देवनाथपुरा स्थित काशी कैलाश भवन पहुंचे थे। भवन के मैनेजर सुंदर शास्त्री ने बताया कि चारों लोगों के लिए 350 रुपये प्रतिदिन के हिसाब से द्वितीय तल पर स्थित एस-6 कमरा राजेश ने बुक कराया। 

कमरा नहीं खोलने पर पुलिस को जानकारी दी
सात दिसंबर की सुबह उन्हें चेक आउट करना था और पूरा भुगतान छह दिसंबर को ही कर दिया गया था। बृहस्पतिवार की सुबह नौ बजे सफाईकर्मी पुष्पा साफ-सफाई के लिए कमरे का दरवाजा खटखटाई तो नहीं खुला। शाम पांच बजे के लगभग वॉचमैन ने फिर कमरे का दरवाजा खटखटाया तो नहीं खुला। शंकावश उसने कमरे की खिड़की को धकेल कर देखा तो एक व्यक्ति फंदे के सहारे लटका दिखा। 

आनन-फानन सूचना पर डॉग स्क्वॉड और फॉरेंसिक टीम के साथ पहुंची पुलिस

सूचना मिलने के बाद एसीपी दशाश्वमेध अवधेश पांडेय और थानाध्यक्ष वैद्यनाथ सिंह घटनास्थल पर पहुंचे। डॉग स्क्वॉड और फॉरेंसिक टीम के साथ पहुंची पुलिस ने कमरे का दरवाजा तोड़ा। अंदर घुसने पर दंपती और उनके दोनों बेटे कमरे की छत में लगे लोहे के एंगल के चार अलग-अलग हुक के सहारे नायलॉन की रस्सी से लटके हुए थे।पुलिस की मौजूदगी में तीनों का शव फंदे से उतारा गया।

सुसाइड नोट के अनुसार, चारों लोगों के आत्महत्या की वजह पैसे के लेनदेन का विवाद और आर्थिक तंगी है। आंध्र प्रदेश पुलिस को सूचना दी गई है। दशाश्वमेध थाने में मुकदमा दर्ज करा कर आगे की कार्रवाई की जाएगी। – मुथा अशोक जैन, पुलिस आयुक्त।

khabaripost.com
sagun lan
sardar-ji-misthan-bhandaar-266×300-2
bhola 2
add
WhatsApp Image 2023-09-12 at 21.22.26_1_11zon
12_11zon
previous arrow
next arrow