srvs-001
srvs
WhatsApp Image 2023-08-12 at 12.29.27 PM
Iqra model school
WhatsApp-Image-2024-01-25-at-14.35.12-1
WhatsApp-Image-2024-02-25-at-08.22.10
WhatsApp-Image-2024-03-15-at-19.40.39
WhatsApp-Image-2024-03-15-at-19.40.40
jpeg-optimizer_WhatsApp-Image-2024-04-07-at-13.55.52-1
previous arrow
next arrow

शराब पीने से मना करने एक युवक ने जहर खाकर सुसाइड कर लिया। पत्नी को जब पति की मौत की खबर मिली तो उसने फांसी लगा ली। परिजन ने देखा तो उसे फंदे से उताकर झांसी मेडिकल कॉलेज ले आए। डॉक्टरों ने उसे भर्ती कर इलाज शुरू किया। उसे वेंटीलेटर पर रखा गया है। उसकी हालत नाजुक बनी हुई है। बताया जा रहा है शराब को लेकर हुए झगड़े में पति ने जहर खा लिया। उसकी हॉस्पिटल में मौत हो गई। पति की मौत के बाद पत्नी ने फांसी लगा ली। उसका मेडिकल कॉलेज में इलाज चल रहा है।

शराब पीने की बात को लेकर अक्सर होता रहा झगड़ा

खबरी पोस्ट नेशनल न्यूज नेटवर्क

झासी। जनपद के लहचूरा थाना क्षेत्र के गढ़वा गांव का रहने वाला गजेंद्र सिंह पटेल (29) खेती करता था। उसकी 12 साल पहले मुन्नो देवी(27) से शादी हुई थी। शादी के कुछ दिनों बाद ही मुन्नो देवी को पति के शराब पीने की बात पता चली थी। इस बात को लेकर अक्सर दोनों में झगड़ा होता था।

परिजन के अनुसार शनिवार शाम को भी दोनों में शराब पीने को लेकर झगड़ा हुआ था। पत्नी रात में किचन में किसी काम से गई थी। इसी दौरान गजेंद्र ने गुस्से में कमरे में जहर खा लिया। उसे जहर खाने की बात घर में किसी को भी नहीं बताई थी। तबीयत बिगड़ने पर परिजन उसे झांसी मेडिकल कॉलेज लेकर आए। यहां इलाज के दौरान देर रात करीब 12 बजे गजेंद्र की मौत हो गई।

khabaripost.com
sagun lan
sardar-ji-misthan-bhandaar-266×300-2
bhola 2
add
WhatsApp-Image-2024-03-20-at-07.35.55
previous arrow
next arrow

जैसे ही पति के मौत की खबर पाई पत्नी भी झुली फंदे पर

परिजन ने रात में उसकी मौत की सूचना पत्नी को नहीं दी। सुबह से पोस्टमार्टम की कार्रवाई शुरू कर दी। पत्नी मुन्नो बार-बार फोन कर पति के बारे में पूछ रही थी। तब परिजनों ने उसे गजेंद्र की मौत की सूचना दे दी। रविवार दोपहर को वह ऊपर कमरे में गई और साड़ी से फंदा बनाकर लटक गई। परिजन पहुंचे तो कमरे में मुन्नो लटकी हुई थी। तब उसे नीचे उतारा गया। सांस चलने पर परिजन मुन्नो को झांसी मेडिकल कॉलेज लाए। जहां उसकी हालत नाजुक बनी हुई है।

50 बीघा जमीन के इकलौते वारिस बेटे की मौत के बाद सदमे में पिता

गजेंद्र अपने माता-पिता का इकलौता बेटा था। उससे बड़ी दो बहनें शादीशुदा है। बेटे की मौत और जिंदगी के लिए जंग लड़ रही बहू को देख पिता बिहारीलाल सदमे में हैं। वे भी हार्ट पेसेंट है। उनकी पत्नी की तीन साल पहले मौत हो चुकी है। गजेंद्र का 10 साल का एक बेटा अभि है। बिहारीलाल अच्छे काश्तकार है। उनके पास 50 बीघा से ज्यादा खेती है।