भारत मुख्य रूप से एक ग्रामीण देश है जिसकी दो तिहाई आबादी और 70% कार्यबल ग्रामीण क्षेत्रों में वास करती है। ग्रामीण अर्थव्यवस्था राष्ट्रीय आय में 46% का योगदान करती है। इस प्रकार, ग्रामीण अर्थव्यवस्था एवं जनसंख्या की प्रगति एवं विकास देश की समग्र प्रगति और समावेशी विकास की कुंजी है।

srvs-001
srvs
WhatsApp Image 2023-08-12 at 12.29.27 PM
Iqra model school
WhatsApp-Image-2024-01-25-at-14.35.12-1
WhatsApp-Image-2024-02-25-at-08.22.10
WhatsApp-Image-2024-03-15-at-19.40.39
WhatsApp-Image-2024-03-15-at-19.40.40
jpeg-optimizer_WhatsApp-Image-2024-04-07-at-13.55.52-1
previous arrow
next arrow

सब इडिटर की कलम से

नई दिल्ली। भ्मेारत वर्ष में ग्राम विकास वृद्धि में ग्राम नेतृत्व की भूमिका पूरे इतिहास में महत्वपूर्ण रही है। भारत के ग्रामीण क्षेत्रों में, गाँव बुनियादी प्रशासनिक इकाई है, और गाँव का नेता या मुखिया गाँव समुदाय के समग्र विकास और भलाई के लिए जिम्मेदार होता है।

गाँव के मुखिया या सरपंच को गाँव के विकास में निभा सकते है सक्रीय भूमिका

परंपरागत रूप से, गाँव के मुखिया या सरपंच को गाँव के लोगों द्वारा चुना जाता था और भूमि के आवंटन, विवादों के समाधान और गाँव के मामलों के समग्र प्रबंधन के लिए जिम्मेदार होता था। समय के साथ, गाँव के मुखिया की भूमिका विकसित हुई है, और अब उनसे जानकार और सक्षम नेता होने की उम्मीद की जाती है जो समुदाय को संगठित कर सकते हैं और गाँव के सतत विकास की दिशा में काम कर सकते हैं।
भारतीय वास्तुकार, लेखक और प्रेरक वक्ता प्रोफेसर नागेंद्र नारायण, ने कहा की भारत में ग्राम विकास और वास्तुकला वृद्धि के लिए ग्राम नेतृत्व की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण है।

गांव का नेता ग्रामीणों और सरकार के बीच एक कड़ी के रूप में करता है कार्य

गांव का नेता समुदाय की जरूरतों और प्राथमिकताओं की पहचान करके और उन जरूरतों को पूरा करने की दिशा में काम करके गांव के विकास को बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। वे ग्रामीणों और सरकार के बीच एक कड़ी के रूप में कार्य करते हैं, और गांव में सरकारी योजनाओं और कार्यक्रमों के कार्यान्वयन की सुविधा प्रदान करते हैं।
गाँव का नेता शिक्षा, स्वास्थ्य, स्वच्छता और बुनियादी ढाँचे के विकास को बढ़ावा देकर गाँव की सामाजिक और आर्थिक स्थिति को बढ़ाने की दिशा में भी काम करता है।

khabaripost.com
sagun lan
sardar-ji-misthan-bhandaar-266×300-2
bhola 2
add
WhatsApp-Image-2024-03-20-at-07.35.55
previous arrow
next arrow

वे निर्णय लेने की प्रक्रियाओं में महिलाओं और समाज के हाशिए पर पड़े वर्गों की भागीदारी को प्रोत्साहित करते हैं और बढ़ावा देते हैं, और गांव में स्थायी आजीविका को बढ़ावा देने की दिशा में काम करते हैं।

सरकार ने विभिन्न योजनओं को ग्राम नेतृत्व की भूमिका को सशक्त बनाने के लिए की शुरूआत

हाल के वर्षों में, भारत सरकार ने ग्रामीण भारत के विकास में ग्राम नेतृत्व की भूमिका को सशक्त बनाने और बढ़ाने के लिए विभिन्न कार्यक्रमों और योजनाओं की शुरुआत की है। राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम (नरेगा), प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना (पीएमजीएसवाई), और स्वच्छ भारत अभियान कुछ ऐसी पहलें हैं जो ग्रामीण भारत के विकास में ग्राम नेतृत्व की भूमिका को समर्थन देने और बढ़ाने के लिए शुरू की गई हैं।
अंत में, गाँव का नेता या मुखिया भारत में गाँव समुदाय के विकास को बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। वे ग्रामीणों और सरकार के बीच एक कड़ी के रूप में कार्य करते हैं, और समुदाय की जरूरतों और प्राथमिकताओं की पहचान करके और उन जरूरतों को पूरा करने की दिशा में काम करके गांव के सतत विकास की दिशा में काम करते हैं।

भारत में ग्रामीण क्षेत्रों से संबंधित प्रमुख मुद्दे

  • शैक्षिक जागरूकता का अभाव: ग्रामीण भारत में स्कूली शिक्षा मुख्यतः सरकारी और सरकारी सहायता प्राप्त स्कूलों पर निर्भर है। ग्रामीण भारत के लिये शिक्षा का सफर आसान नहीं रहा है।
    • ग्रामीण स्कूलों के छात्रों की डिजिटल लर्निंग, कंप्यूटर शिक्षा और गैर-शैक्षणिक पुस्तकों जैसे उन्नत शिक्षण साधनों तक पहुँच नहीं है अथवा बेहद सीमित पहुँच है।
    • इसके साथ ही, ग्रामीण परिवार विभिन्न कारणों से हमेशा आर्थिक बोझ में दबे रहते हैं। उनके लिये अपने बच्चों की शिक्षा दूसरी प्राथमिकता बन जाती है; उन्हें अपने अस्तित्व के लिये आय सृजन गतिविधियों में भाग लेने के लिये विवश होना पड़ता है।
  • प्रभावी प्रशासन का अभाव: भारत में सफल ग्रामीण विकास की राह में सबसे बड़ी समस्या है प्रशासनिक प्रणाली में पारदर्शिता की कमी।